«

»

प्राचार्य की कलम से …….

1958 से सरस्वती शिक्षा समिति की छात्र-छात्राओं में उदभूत जांजगीर महाविद्यालय जांजगीर 1975 में शासनाधीन हुआ तब महाविद्यालय प्रख्यात बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की स्मृति में शासकीय ठाकुर छेदीलाल महाविद्यालय जांजगीर के नाम से पुर्न नामांकित हुआ इस संस्था में जांजगीर लॉ कॅालेज भी, जो 1960 से संथापित था, 1984 में इसी महाविद्यालय में, पवित्र संगम के संतान मिल गया जो आज एल.एल.एम. कक्षाओं से विद्मान होकर गौरान्वित है।
महाविद्यालय को स्थापित हुये 59 वर्ष पूरे हो चुके है। इस महाविद्यालय के प्रगति में जिन गणमान्य नागरिकों का योगदान हमेशा स्मरणीय रहेगा उनमें से कुछ प्रमुख इस प्रकार है-

  • श्री कुलदीप सहाय
  • श्री लखेश्वरलाल पालीवाल
  • पं. महावीर प्रसाद शर्मा
  • पं. शिवप्रसाद शर्मा
  • श्री जगदीश चन्द्र तिवारी
  • श्री महादेव प्रसाद पालीवाल
  • श्री शारदा प्रसाद वर्मा

इस महाविद्यालय का उद्घाटन म.प्र. के शिक्षा मंत्री श्री शंकर दयाल शर्मा जी ने किया था जो बाद में राश्ट्रपति भी बने थे 1975 में श्री सेठी जी के समय यह शासनाधीन हुआ था। यह तहसील स्तर का प्रथम कॉलेज था। यहाँ तहसील 1885 में बनी थी तथा कॉलेज 1958 में बना। इस महाविद्यालय के वार्शिक उत्सव में –

1. श्री हरिवंश राय बच्चन 2. श्री नागार्जुन 3. श्री नीलम संजीवन रेड्डी

आ चुके है, माननीय वर्तमान विद्यायक चंदेल जी जो विधानसभा एपाध्यक्ष भी है। महाविद्यालय के विकास में भरपूर सहयोग दिया है- महाविद्यालय के भवनों के निर्माण में, महाविद्यालय की साज सज्जा के विकास में, गर्ल्स हॉस्टल की बाधाओं को दूर करनें में तथा उदघाटन करने तक में, लायब्रेरी निर्माण, एल.एल.एम. खुलवाने में, छात्र हित में अनेकों कूलर लगवाने में भरपूर सहयोग दिया है आज भी वे जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष है जो महाविद्यालय के विकास में निरंतर गतिमान है। सांसद श्रीमती कमला देवी पाटले का आर्शीवाद भी महाविद्यालय केा प्राप्त है।
महाविद्यालय में कला, वाणिज्य, विज्ञान, लॉ की फेकल्टीज हैं साथ ही एड आन कोर्सेस, कम्प्यूटर कोर्सेस, बायोटेक्नलॉजी भी है। होम साइन्स तथा मनोविज्ञान विशय भी है। साथ ही एम.ए. हिन्दी, समाजशास्त्र, इतिहास, राजनीति शास्त्र, अर्थशास्त्र, दर्शनशास्त्र, एम.एस.सी. में रसायन, जीवविज्ञान, भौतिकशास्त्र तथा वाणिज्य में एम.कॉम है। गणित अंग्रजी माइक्रोबायोलॉजी में धीरे-धीरे छात्रों के रूझान से छात्र संख्या में वृद्धि हो रही है।
छात्रों की सजगता विद्या के उत्थान में सर्वोच्चता लाती है छात्रों की यहाँ 2 एन.एस.एस. इकाईयाँ है एन.सी.सी. भी है। यहा छात्राओं का छात्रावास है। इस वर्श 23 छात्राओं ने प्रवेश लिया था जबकि 50 छात्राओं हेतु व्यवस्था है। छात्राओं से अपेक्षा है कि वे छात्रावास नियमो का कड़ाई से पालन करें। वे छात्रावास में पालकों को प्रविश्ठ न होने देने में सहयोग करें। छात्रायें मेंस में ही खाना खायें।
महाविद्यालय की उन्नति तथा अभिवृद्धि के साथ विद्या अर्जन में उच्चता हासिल करना छात्र-छात्राओं का लक्ष्य होना चाहिए। स्पोर्टस की अनेकों सुविधायें महाविद्यालय में उपलब्ध है जिनका उपयोग कर महाविद्यालय का नाम गौरान्वित करें। 29 प्राध्यापक एवं 40 ऑफिस स्टाफ भी प्राचार्य के साथ कदम से कदम मिलाकर विकास की ओर संलग्न है। महाविद्यालय के प्रत्येक छात्र-छात्रा को यह संकल्प लेना चाहिए कि हम सब प्रगति करें, हम सब अनुशासित रहें, हम सब सहयोगी भाव रखें। सरस्वती समिति के इस शिक्षा संस्थान को विद्या की उच्चतर उपलब्धियों से भर दें।
महाविद्यालय में इस वर्श स्कालरशिप एस.सी./एस.टी./ओ.बी.सी. हेतु ऑन लाईन देने की व्यवस्था कर दी गई है। महाविद्यालय में इस वर्श नई विशयों में पी.एच.डी. के शोघ केन्द्र हैं जैसे – वाणिज्य, दर्शनशास्त्र, इतिहास, राजनीति विज्ञान, रसायन शास्त्र, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, हिन्दी आदि।
महाविद्यालय में अनेक माइनर प्रोजेक्ट कार्य किये जा रहे है जिसमें इतिहास, दर्शनशास्त्र, समाजशास्त्र, एवं अर्थशास्त्र में कार्य पूर्णता की ओर हैं। महाविद्यालय में सुंदरलाल शर्मा वि.वि. के अध्ययन केन्द्र एवं परीक्षा केन्द्र के रूप में सुविधाए प्रदान की जाती हंै व्यापम एवं पी.एस.सी. परीक्षा हेतु महाविद्यालय को केन्द्र बनाया जाता है।
छात्र-छात्राओं से ही महाविद्यालय अस्तित्व में रहता है यदि वे अच्छे है तो महाविद्यालय भी अच्छा कहलायेगा और वह अच्छा तभी होगा जब छात्र-छात्राय शैक्षणिक स्पर्धा में उच्चस्तर स्थिति में पहुंचे।
शुभकामनाओं के साथ……………….
(संतोष कुमार अग्रवाल )
प्राचार्य